Yoga for students : परीक्षा का तनाव भी मिटाए छात्रों के लिए जरूरी हैं ये सात एक्सरसाइज.

Yoga for students: अच्छा प्रदर्शन करने की बढ़ती उम्मीद ने स्कूल जाने वाले बच्चे को बहुत अधिक अनावश्यक तनाव दिया है और साथ ही उन बच्चों की भी मात्रा बढ़ी है, जिनमें उदासी, पैनिक अटैक या आत्मघाती विचारों का अनुभव हो रहा है। योग विशेषज्ञों का मानना है कि योग के दिव्य साधन के साथ, माता-पिता अपने बच्चों को इन सभी कार्यों और परीक्षणों के तनाव से निपटने में मदद कर सकते हैं।

सभी उम्र के बच्चे अपने समग्र कल्याण और सभी स्तरों पर विकास के लिए योग की सहायता से लाभान्वित हो सकते हैं। याददाश्त, एकाग्रता और फोकस सभी बच्चों को स्कूल में बहुत बेहतर बना सकता है, जिससे छात्रों को भविष्य के नेतृत्व के पदों के लिए अधिक उत्पादक और योग्य बनाया जा सकता है।

परीक्षा के तनाव से निपटने के लिए 7 बेस्ट योग एक्सरसाइज
Kakasana: समस्तीथी से शुरू करें। हथेलियों को समतल रखें। आगे झुकें ताकि आपके शरीर का वजन आपकी हाथों पर आ जाए। संतुलन पाएं और अपने पैरों को ऊपर उठाएं।

Padmasana: अपने बाएं घुटने को मोड़कर दायीं जांघ के ऊपर रखें। इसी तरह अपने दाहिने घुटने के साथ भी ऐसा ही करें और इसे अपनी बाईं जांघ के ऊपर रखें।

Padahasthasana: सीधे खड़े होने पर से सांस लेते हुए हाथों को ऊपर की ओर उठाएं। सांस छोड़ने से पहले एक या दो सेकंड के लिए अपनी सांस रोकें और उसी समय आगे झुकें। आपके हाथ आपके पैरों को छूने चाहिए और इस आसन को करते समय अपने घुटनों को मोड़ने की कोशिश न करें।

Paschimottanasana: दंडासन से शुरुआत करें। जैसे ही आप सांस लेते हैं, अपना पेट हवा से खाली करें। जैसे ही आप सांस छोड़ते हैं, कूल्हों पर आगे झुकें और अपने ऊपरी शरीर को अपने निचले शरीर पर रखें। जैसे ही आप सांस छोड़ते हैं, अपने हाथों को नीचे करें और अपने पैर की उंगलियों को अपनी हाथों की उंगलियों से पकड़ें। जैसे आप अपने घुटनों को अपनी नाक से छूने की कोशिश करते हैं। वैसे आप कुछ देर के लिए मुद्रा में रहें।

Sirshasana: वज्रासन प्रारंभिक स्थिति है। आपकी कोहनियां जमीन पर होनी चाहिए। आपकी हथेलियों और कोहनियों को एक समबाहु त्रिभुज बन जाना चाहिए।

Super Brain Yoga: अपने बाएं हाथ को ऊपर उठाएं और अपने अंगूठे और तर्जनी को अपने दाहिने कान के लोब पर रखें, जबकि सीधे और सीधे अपनी भुजाओं के साथ खड़े हों। अपने बाएं कान के लोब को अपने अंगूठे के सामने रखते हुए अपना दाहिना हाथ उठाएं। आपका बायां हाथ आपके दाहिने हाथ के सामने होना चाहिए।

Ganesh Namaskar: अपने बाएं हाथ से अपने दाहिने कान के लोब को अपने अंगूठे और तर्जनी से पकड़ें। आपका अंगूठा सामने होना चाहिए। गहरी सांस छोड़ें और बैठने की स्थिति में धीरे-धीरे स्क्वाट करें।