Feet Sensation : जानिए किस विटामिन की कमी से होती है झुनझुनी इस वजह से लगता है कि हाथ-पैरों में काट रही हैं चीटियां.

Feet Sensation : कई बार बैठे-बैठे या बहुत देर तक हाथ या पैर दबाकर रखने से अजीब सी झुनझुनी होने लगती है. इस झुनझुनी को ही चींटी चलना कहते हैं. ऐसा लगने लगता है जैसे छोटी-छोटी चींटियां या फिर कीड़े नसों में चल रहे हों. लेकिन, क्या आप जानते हैं ऐसा क्यों होता है? असल में इस झुनझुनी (Tingling) का कारण इस एक विटामिन की कमी हो सकती है. आइए जानें, विटामिन (Vitamin) के अलावा इस झुनझुनी के क्या कारण हैं और इसे कैसे दूर किया जा सकता है.

हाथ-पैरों में झुनझुनी के कारण | Causes of Hand and Foot Sensation

हाथ-पैरों में झुनझुनी होने का एक कारण विटामिन ई की कमी (Vitamin E Deficiency) है. विटामिन ई एक एंटी-ऑक्सीडेंट्स है जो फ्री रेडिकल्स से डैमेज होने वाली सेल्स को प्रोटेक्ट करते हैं. जिन फ्री रेडिकल्स की बात की जा रही है वो वातावरण में धुएं, सूरज की किरणों और हवा में फैली गंदगी के रूप में भी हो सकते हैं. विटामिन ई की इस कमी को पूरा करने के लिए कुछ खाने की चीजों को अपनी डाइट का हिस्सा बनाया जा सकता है.

विटामिन ई की कमी को पूरा करना
शरीर में विटामिन ई की कमी हाथ-पैरों में झुनझुनी का एक बढ़ा कारण है. इसकी कमी पूरी करने के लिए खाने की कुछ चीजें आसानी से रोजमर्रा में खाई जा सकती हैं. जब शरीर को पर्याप्त मात्रा में विटामिन मिलेगा तो जाहिर सी बात है यह झुनझुनी की दिक्कत भी दूर हो जाएगी.

बादाम (Almonds) में अच्छीखासी मात्रा में विटामिन ई पाया जाता है. इसे स्नैक के तौर पर खाया जा सकता है. इसके साथ ही शरीर की पूरी सेहत बनाए रखने और खासकर मस्तिष्क के लिए बादाम का सेवन अच्छा होता है.

विटामिन ई से भरपूर सूरजमुखी के तेल से खाने की कई चीजों को पकाया जा सकता है. यह तेल सलाद में डालकर खाने के लिए भी अच्छा है.

मूंगफली भी खाने की उन चीजों में शामिल है जिनमें विटामिन ई पाया जाता है. इन्हें स्नैक्स के रूप में खाएं और मजा लें.

एवोकाडो को भी विटामिन ई पाने के लिए खाया जा सकता है. आप विटामिन ई के सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं.

यह भी हो सकते हैं झुनझुनी के कारण

विटामिन डी (Vitamin D) की कमी भी हाथ-पैरों में झुनझुनी की वजह बन सकती है. इस विटामिन का मुख्य स्त्रोत सूरज की किरणें हैं.

डायबिटीज के मरीजों में भी यह दिक्कत देखी जाती है.

अगर कोई नस खिंच जाए तो झुनझुनी महसूस हो सकती है.

ऑटो इम्यून बीमारियां भी झुनझुनी की वजह बनती हैं.