Is khand And Jaggery Same : जानें खांड या गुड़ में से ज्यादा फायदेमंद कौन हैं फिट और हेल्दी रहने के लिए.

भारत में त्योहार हो या कोई शुभ अवसर मीठा खिलाने और बनाने की परंपरा सदियों से चली आ रही है। भारतीय खान-पान में मीठे का अपना ही अलग मजा है। लेकिन इस बात से हम सभी वाकिफ है कि खाने में जरूरत से ज्यादा मीठा हमारी सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। खासकर चीनी से बनी मिठाई हर किसी को पसंद होती है लेकिन इससे सेहत पर काफी बुरा असर पड़ता है।

पुराने समय में लोग चीनी के बजाए गुड़ या खांड खाना पसंद करते थे। वहीं मॉडर्न लाइफस्टाइल में लोगों ने इनका सेवन करना बंद कर दिया है। क्योंकि चीनी के मुकाबले यह ज्यादा लाभकारी होती है। इस लेख में हम आपको देसी खांड और गुड़ के लाभ के बारे में बताएंगे। इस विषय पर हमने फैट टू स्लिम ग्रुप की सेलिब्रिटी इंटरनेशनल डाइटीशियन और न्यूट्रिशनिस्ट शिखा अग्रवाल शर्मा से बात की और उन्होंने हमें बताया कि खांड और गुड़ दोनों ही गन्ने से बनाया जाता है। यह दोनों ही सेहत के लिए काफी अच्छा माना जाता है। आइए जानते हैं खांड और गुड़ के फायदे।

खांड क्या होता है?
खांड को गन्ने के रस से बनाया जाता है। इसे मस्कोवादो चीनी भी कहा जाता है। खांड को कम रिफाइंड किया जाता है जिसकी वजह से यह चीनी से बेहतर माना जाता है। इसकी सबसे खास बात यह है कि इसमें किसी भी तरह के केमिकल का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। प्राचीन समय में खांड को गुड़िया शक्कर के नाम से जानते थे। चीनी आने के बाद से खांड का इस्तेमाल कम हो गया है। खांड को गन्ने के रस को गर्म करके बनाया जाता है। इसके बाद पानी और दूध से साफ किया जाता है। इस तरह से खांड पाउडर तैयार किया जाता है। (चीनी खाने के नुकसान)

किस तरह बनाया जाता है गुड़?
गुड़ चीनी का एक हेल्दी विकल्प है। इसे भी गन्ने के रस को गाढ़ा करके बनाया जाता है। गन्ने के रस को जब तक पकाया जाता है जब तक यह गाढ़ा न हो जाए। इसके बाद इस मिश्रण को ठंडा होने के लिए छोड़ा दिया जाता है। चीनी की तुलना में यह बेहतर माना जाता है।

चीनी का बेहतर विकल्प कौन सा है?
व्हाइट चीनी की तुलना में खांड और गुड़ दोनों ही हेल्दी और पौष्टिक होते हैं। यह दोनों ही गन्ने के रस से बनाया जाता है। कुछ जगह पर खजूर के रस से भी गुड़ बनाया जाता है। खांड में कैल्शियम, खनिज, फाइबर, आयरन, विटामिन और मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। वहीं गुड़ में प्रोटीन, वसा, लोहा, मैग्नीशियम, पोटेशियम और मैंगनीज पाया जाता है। खांड में एंटी ऑक्सीडेंट के गुण होते हैं जो कि सफेद चीनी की तुलना में बेहतर होता है।

खांड खाने के फायदे
एक्सपर्ट के अनुसार देसी खांड का सेवन करने से शरीर को ठंडक मिलती है। खांड में कैल्शियम, फाइबर और आयरन पाया जाता है। जिसके सेवन से आप बीमारियों से दूर रह सकते हैं। आइए जानते हैं खांड का सेवन करने के फायदे

खांड का सेवन करने से कब्ज से राहत मिलती है। लेकिन जरूरत से ज्यादा खांड का सेवन करने से नुकसान भी हो सकता है। हफ्ते में केवल खांड का सेवन दो बार ही करना चाहिए।

पीसीओडी के दौरान महिलाएं मीठा खाने से डरती हैं। ऐसे में आप खांड का सेवन कर सकती हैं। यह पीसीओडी को कंट्रोल करने में काफी मददगार होता है।

खांड का सेवन करने से गैस से भी राहत मिलती है।

किसे नहीं खाना चाहिए खांड और गुड़

बहुत से लोगों को गुड़ से एलर्जी होती है। ऐसे में उन लोगों को इनका सेवन नहीं करना चाहिए।

अस्थमा के मरीज को अधिक गुड़ और खांड का सेवन करने से बचना चाहिए।

ज्यादा गुड़ का सेवन करने से नींद पर भी काफी असर पड़ता है।

वहीं गुड़ को लेकर मिथ है कि इसका सेवन करने से वजन कम होता है। जबकि ऐसा नहीं है ज्यादा मात्रा में इसका सेवन करने से आपका वजन बढ़ सकता है।