Brain Fog : जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज क्या है ब्रेन फॉग फैसले लेने में क्यों होती है दिक्कत.

Brain Fog Problem: आज के समय की बदलती लाफस्टाइल की वजह से लोग मानसिक रोगों का शिकार होते जा रहे हैं। इसमें ब्रेन फॉग (Brain Fog) जैसी समस्याएं शामिल हैं। वैसे तो फॉग (Brain Fog) एक बीमारी नहीं है बल्कि अन्य बीमारियों का एक रूप है जिसमें याददाश्त कम होना, मानसिक स्पष्टता की कमी, फोकस करने में परेशानी, ध्यान केंद्रित करने में मुश्किल आदि शामिल हैं।

ऐसी कंडीशन में इंसान हमेशा कंफ्यूज रहता है जिसकी वजह वो कोई भी डिसिजन लेने में असमर्थ महसूस करता है। ऐसे में आज हम आपको ब्रेन फॉग (Brain Fog) के कारण, लक्षण और बचाव के तरीके बताने जा रहे हैं। जिनको अपनाकर आप इस समस्या से खुद को निकालकर हेल्दी जीवन जी सकते हैं, तो चलिए जानते हैं-

ब्रेन फॉग के कारण
क्रोनिक तनाव ब्लड प्रेशर बढ़ा देता है, साथ ही इससे आपकी इम्यूनिटी वीक हो सकती है जिससे आपका डिप्रेशन ट्रिगर हो सकता है। इससे आप मानसिक थकान की चपेट में आ जाते हैं। ब्रेन फॉग की वजह ये दिमाग को सोचने, समझने, अपनी बात रखने और ध्यान केंद्रित करने में काफी कठिनाई होती है।

ब्रेन फॉग के लक्षण

नींद न आने की समस्या

सिर दर्द की समस्या

आलस या थकान महसूस होना

मूड स्विंग होना

बार-बार इरिटेट होना

भूलने की समस्या

ध्यान केंद्रित करने में समस्या.

विचारों की कमी होना.

उदासी फील करना.

अकेलापन महसूस होना.

इलाज और बचाव

लाइफस्टाइल में बदलाव करके ब्रेन फॉग का इलाज हो सकता है.

मोबाइल या कंप्यूटर पर कम समय बिताएं.

पोजिटिव सोच रखें.

स्ट्रेस को कम करें.

हेल्दी डाइट अपनाएं.

दिन में करीब 7-8 घंटे सोएं.

रोजाना एक्सरसाइज करें.

शराब, धूम्रपान और ज्यादा कॉफी से बचें.