Sesame seeds : तिल है दिल के लिए फायदेमंद ऐसे खाएंगे तो नहीं होगा हार्ट अटैक और हाई ब्लड प्रेशर.

हाइपरटेंशन यानी कि हाई ब्लड प्रेशर की वजह से दिल से जुड़ी कई बीमारियां हो सकती हैं। अगर हाई बीपी को काबू में न रखा गया तो आपकी सेहत दिन ब दिन बिगड़ती ही जाएगी। अचानक हार्ट फेल होना, हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट इत्यादि इतना आम हो गया है कि युवा भी इसके शिकार हो रहे हैं। वैज्ञानिक और हर्बल मेडिसिन एक्सपर्ट दीपक आचार्य ने हमें बताया कि काला तिल दिल के लिए बेहद फायदेमंद है। उन्होंनं बताया कि सन 2012 में थाईलैंड की माहिडोल यूनिवर्सिटी के कुछ वैज्ञानिकों ने हीरन लाल जैसे जानकारों के काले तिल से जुड़े पारंपरिक ज्ञान पर आधारित कुछ दावों की पुष्टि कर दी थी और इन दावों से सारा आधुनिक औषधि विज्ञान जगत भी अचंभे में आ गया था। आज भी माहिडोल यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों की उस शोध पर कई अन्य वैज्ञानिक अपने-अपने तरह से आधुनिक तरीकों को अपनाकर शोध कर रहे हैं। कई फार्मा कंपनियों की नींद उड़ा देने वाली वैज्ञानिकों की उस शोध रिपोर्ट ने काले तिल (काली तिल्ली) के कुछ खास गुणों की क्लिनिकल रिसर्च से प्राप्त परिणामों की खूब वकालत की है।

”जब-जब आधुनिक विज्ञान किसी भी पारंपरिक जड़ी-बूटियों या हर्बल नुस्खों के दावों को बतौर शंका किए आलोचक की तरह परखता है और यदि उनके सकारात्मक परिणाम प्राप्त होते हैं और उन परिणामों का खुलकर बखान किया जाता है तो मैं इसे पूरे मानव समाज कल्याण के लिए बेहद खास मानता हूँ क्योंकि पारंपरिक जड़ी-बूटियों के ज्ञान को अब तक शंका की नज़रों से ही देखा जाता रहा है।”

क्यों दिल के लिए खास है तिल?
तिल (Sesame seeds) में टोकोफेरॉल्स और एंटीऑक्सिडेंट्स खूब पाए जाते हैं। काले तिल के तेल में प्रोटीन, सिसेमोलिन, लाइपेज, पामिटिक, लिनोलीक एसिड तथा कई प्रकार के ग्लिसराइडस पाये जाते हैं, इसलिए भी इसे दिल के खास माना जाता है। हृदय विकारों की बात हो या रक्त दबाव से जुड़ी बातें, तिल तो खास है ही लेकिन इसके अलावा इसके कई ऐसे नायाब उपयोग भी हैं जिन्हें आज भी आदिवासी अंचलों में खूब इस्तेमाल में लाया जाता है।

कैसे और कितना करें तिल का सेवन?
10-15 ग्राम (3- 4 चम्मच) तक काला तिल रोज आराम से खाएं, कभी भी..और हाँ, चबाने से पहले इन्हें हल्का सा भून जरूर लें। नमक मिलाए बगैर चबाएं तो ज्यादा फायदा मिलेगा, इसका फायदा आपकी स्किन पर भी दिखेगा।