Snake Bite Death Time : अगर डस लें ये 5 सांप तो मिनटों में चली जाती है जान करैत के जहर की काट नहीं.

सांपों से इंसान का पाला अक्‍सर पड़ता रहता है। कभी जंगल-झाड़‍ियों में तो कभी कंक्रीट के घरों में, सांप दिख ही जाते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार ज्‍यादातर सांप जहरीले नहीं होते मगर जो होते हैं, वे बहुत खतरनाक हैं। भारत में एक से एक जहरीले सांप मौजूद हैं जो डस लें तो कुछ मिनटों में मौत हो जाए। उत्‍तर प्रदेश के शाहजहांपुर में पिछले दिनों एक पूर्व प्रधान ऐसे ही सांप का शिकार हो गए। घर में सांप निकला था, इनको बचपन से सांप पकड़ने का शौक था। आसानी से पकड़ लिया और खेलने लगे। पकड़ ढीली हुई तो सांप ने डस लिया। जहर से उनकी मौत हो गई। हाल में सोशल मीडिया के लिए सांप पकड़ने के वीडियो बनाने का ट्रेंड भी चला है। बिना यह जाने कि खतरा कितना बड़ा है, सांपों से दूरी ही ठीक है। करैत, किंग कोबरा, रसेल वाइपर जैसे कई सांप हैं तो इतने जहरीले हैं कि डसते ही धड़कनें बंद होने लगती हैं।

किंग कोबरा: दो मीटर दूर से फेंकता है जहर
फन उठाकर खड़े किंग कोबरा को देखकर बड़े-बड़े दूर से ही भाग खड़े हों। यह दुनिया का सबसे लंबा जहरीला सांप है। इसकी लंबाई साढ़े 5 मीटर तक हो सकती है। यह जमीन से 2 मीटर ऊपर तक फन उठा सकता है। किंग कोबरा से बाकी सांप भी बचकर निकलते हैं क्‍योंकि यह उन्‍हें भी खा जाता है।

किंग कोबरा की गिनती भारत ही नहीं, दुनिया के सबसे जहरीले सांपों में होती है। सबसे खतरनाक बात यह कि अपने शिकार को मारने के लिए किंग कोबरा को डसने की जरूरत नहीं। यह 2 मीटर दूर से ही जहर फेंककर शिकार को अंधा कर सकता है।

आमतौर पर घने जंगलों, ठंडे दलदलों, बांस और रेनफॉरेस्‍ट्स में पाया जाता है। किंग कोबरा के जहर की काट मौजूद है मगर इसका एक दंश ही इंसान की मौत के लिए काफी है। किंग कोबरा के काटने के 30 मिनट के भीतर ऐंटी-वेनम न मिले तो मौत हो जाती है।

इंडियन करैत: सबसे जहरीला, काटा पानी भी नहीं मांगता
करैत सांप गांवों और जंगलों में खूब निकलता है। देश में इंसानों को सबसे ज्‍यादा यही सांप काटता है। इसके जहर में ऐसे न्‍यूरोटॉक्सिन्‍स होते हैं कि शरीर काम करना बंद कर देता है। 45 मिनट के भीतर इंसान की मौत हो जाती है। दिक्‍कत ये है कि उत्‍तर भारतीय करैत के जहर की काट नहीं है। 6.5 फीट तक लंबाई रखने वाले करैत सांप 10-17 साल की उम्र तक जिंदा रहते हैं।

रसेल्‍स वाइपर: भारत का सबसे ‘हत्‍यारा’ सांप
रसेल्‍स वाइपर (Russell’s viper) सांप भारत में हर जगह पाया जाता है। किसी और सांप के मुकाबले, इसी ने सबसे ज्‍यादा भारतीयों की जान ली है। यह डसने से पहले जोर से फुफकारता है। इसकी बाइट से एक हीमोटॉक्सिन रिलीज होता है जो सीधे सेंट्रल नर्वस सिस्‍टम को पंगु कर देता है। रसेल्‍स वाइपर काटे तो इंटरनल ब्‍लीडिंग होती है, तेज दर्द उठता है और दिमाग में हेमरेज हो जाता है। बिना ऐंटी-वेनम 45 मिनट के भीतर मौत हो जाती है। रसेल्‍स वाइपर रात में खूब सक्रिय रहता है जो इसे इंसानों के लिए और खतरनाक बनाता है।

सॉ-स्‍केल्‍ड वाइपर: छोटा मगर बेहद जहरीला है ये सांप
देखने में तो सॉ-स्‍केल्‍ड वाइपर बेहद छोटा होता है, मगर जहरीला बहुत है। इसकी बड़ी-बड़ी आंखें, गर्दन से चौड़ा सिर बाकी सांपों से अलग बनाते हैं। आमतौर पर रेतीले, चट्टानी और नर्म मिट्टी वाले इलाकों में पाया जाने वाला यह सांप 2.6 फीट से ज्‍यादा लंबा नहीं होता। यह भारत के चार सबसे जहरीले सांपों में सबसे छोटा होता है। दुनिया में सबसे ज्‍यादा इसी सांप के काटने से लोग मरते हैं। इसका ऐंटी-वेनम उपलब्‍ध है इसके बावजूद मृत्‍यु-दर 20% है यानी हर पांच में से एक शिकार की मौत हो जाती है।

इंडियन कोबरा: नाग डसे तो दो घंटे में मौत
भारत में कई तरह के कोबरा पाए जाते हैं मगर सबसे आम नाग है। सर्पदंश के अधिकतर मामले इसी के आते हैं। इसका फन इसे आकर्षक बनाता है। यह 7 फीट तक लंबे हो सकते हैा और पूरे भारत में पाए जाते हैं। नाग के काटने से दो घंटे के भीतर इंसान की मौत हो सकती है। नाग का जहर शरीर को सुन्‍न कर देता है। रेस्पिरेटरी सिस्‍टम फेल हो सकता है, कार्डियक अरेस्‍ट हो सकता है।